Keyboard क्या है? और कितने प्रकार के होते है? Types of Keyboard in Hindi

कीबोर्ड क्या है और यह कितने प्रकार के होते है

Keyboard kya hai और ये कितने प्रकार के होते है ? इन हिंदी – दोस्तों आज हम keyboard के बारे में जानेंगे की Keyboard kya hai और ये कितने प्रकार के होते है ? इन हिंदी में। वैसे आपने कंप्यूटर या लेपटॉप इस्तेमाल किया होगा तो आप जरूर ही keyboard के बारे में जानते होंगे। keyboard के बारे में आपको थोड़ी बहुत जानकारी भी होगी ही की इसे कैसे इस्तेमाल किया जाता है और ये कंप्यूटर के लिए कितना जरुरी होता है।

आज हम टेक्नोलॉजी और कंप्यूटर के जरिये कई अनगिनत काम करने वाले युग में है। Therefore हमे कंप्यूटर से जुड़े सबसे महत्पूर्ण पार्ट के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। अत: आज हम कंप्यूटर के ऐसे इम्पोर्टेन्ट पार्ट Keyboard के बारे में अच्छी तरह से जानेंगे।

कीबॉर्ड कंप्यूटर का एक महत्पूर्ण और बेहद जरुरी हिस्सा है। कंप्यूटर पर काम करने के लिए हमे keyboard आवश्यकता होती है। जब भी कोई व्यक्ति कंप्यूटर सीखना या चलाना चाहता है, तो उसे सर्वप्रथम computer keyboard से परिचित कराया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है की सीखने वाला व्यक्ति कंप्यूटर के basics को समझ ले so that वह आसानी के कंप्यूटर को ऑपरेट कर सके।

Keyboard के मदद से कंप्यूटर पर काम करना भी नामुकिन सा मालूम होता है। कबोर्ड से टाइपिंग ही नहीं बल्कि कई और काम किये जाते है और कीबोर्ड से कई sort cut keys का use कर कंप्यूटर ऑपरेटिंग को आसान बनाया जाता है। यह एक input device होता है, जो कंप्यूटर में जोड़ा जाता है और ये कंप्यूटर से कनेक्ट रहता है। कंप्यूटर से व्यक्ति संवाद करता है। कीबोर्ड ऐसी ही कई खासियते है जिनकी वजह से आज हम कीबोर्ड से जुडी सभी इम्पोर्टेन्ट बातो के बारे में जानेंगे। आज बाजार में कई प्रकार के अलग-अलग कीबोर्ड मौजूद है। जिनसे शायद सभी लोग भली भांति परिचित भी नहीं होते है। Therefore जरुरी है की हम इस पोस्ट में Keyboard kya hai और ये कितने प्रकार के होते है ? इन हिंदी इनके बारे में जान ले …..

Keyboard kya hai (What is a keyboard) –

Keyboard kya hai कंप्यूटर का वह भाग होता है जो सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। यह एक महत्वपूर्ण हिस्सा है या यूँ कहे की कीबोर्ड के बिना कंप्यूटर पर काम करना नामुकिन है तो ये बात गलत नहीं होगी। Because कीबोर्ड का काम एक typewriter के जैसा ही होता है और चलता भी वैसे ही है। पर यह टाइपराइटर से ज्यादा सुबिधाजनक होता है। कीबॉर्ड पर लम्बे समय तक काम करना आसान हो जाए है।

कीबोर्ड में कई सारे keys मौजूद है, जिनका इस्तेमाल कंप्यूटर को आदेशित करने के लिए किया जाता है। जब हम किसी Keyboard की key को एक बार दबाते है तो वह कंप्यूटर को संकेत भेजता है और वह वर्ड कंप्यूटर स्क्रीन पर type हो जाता है। But जब किसी key को दबाये रखते है तो वह key अपने आपको दोहराता रहता है। कंप्यूटर कीबोर्ड इस्तेमाल करने का एक क्रम होता जिसमें हमे सीखना होता है की किस key इस्तेमाल क्या है और वह क्या वर्ड लिखेगी और किस key के साथ दूसरे key का इस्तेमाल किया जाय। कीबोर्ड में जो keys संख्या लिखती बनाती है, उन्हें numerical numbers keys कहाँ जाता है। कंप्यूटर में बाकी के keys कुछ वर्ड और संकेत चिन्ह बनाने में इस्तेमाल किये जाते है।

वर्तमान में जो keyboard प्राय: प्रचलन में उन कीबोर्ड में आपको 80 से लेकर 140 keys देखे जा सकते है। जिनमें आपको कुछ सॉर्ट कट keys भी देखने को मिल सकते है। कीबोर्ड जे जुड़ी इतनी जानकारी प्राप्त होने के बाद ये सवाल आता है की कीबोर्ड कैसे काम करता और सॉर्ट कट कीस का रॉल होता है तथा कीबोर्ड कितने प्रकार के होते है। Then ये सब हम आगे जानेंगे। अब हम जानते है की Keyboard kya hai और कैसे काम करता है …

कीबोर्ड कैसे काम करता है (How keyboard work) –

Keyboard kya hai ये जानने के बाद जरुरी है की keyboard काम कैसे करता के बारे जानले – Above all Keyboard का काम करने का तरीका बेहद की आसान होता है। इसे एक केबल द्वारा कंप्यूटर से कनेक्ट किया जाता है। कीबोर्ड में मौजूद प्रत्येक keys के जरिये electronic signal computer के CPU को भेजा जाता है जिससे कंप्यूटर के ये पता चलता है की किस बटन का संवाद भेजा गया और वह उस key से होने वाली प्रक्रिया दिखता है।

कंप्यूटर के कीबोर्ड पर प्रत्येक बटन पर चिन्ह उकेरे या लिखे होते है जिनसे ये पता चलता है की हम उस key या बटन से उकेरा हुआ विशेष शब्द लिख सकते है। Keyboard के प्रत्येक key के नीचे एक इलेक्ट्रॉनिक स्विच लगा हुआ होता है, जिसके माध्यम से key दबाने पर अक्षर के कोड के अनुसार बिजली के पल्स पैदा होते हैं, जिन्हें computer आसानी से समझ लेता है। बिजली के इन संकेतों से चुम्बकतत्व ऊर्चा पैदा कर डाटा को किसी भी चुम्बकी माध्यम से कंप्यूटर में संगृहीत किया जा जाता है। अब हम ये तो जान चुके है की कंप्यूटर का कीबोर्ड कैसे काम करता है। Then आगे हम जानेंगे कुछ विशेष कंप्यूटर keys जैसे function keys और कुछ sort cut keys के बारे में जानेंगे ….

Computer Keyboard Function Keys –

यहां हम कंप्यूटर कीबोर्ड के कुछ इम्पोर्टेन्ट keys की बात कर लेते और उनके फंक्शन क्या होते है के बारे में जानते है –

  1. Ctrl– का यूज़ Shortcut के लिए। For Example Ctrl+S = Save file
  2. Tab– का यूज़ एक Tab से दूसरे Tab में जाने के लिए ।
  3. Caps lock– का यूज़ सभी Alphabets को Capital Letter में लिखने के लिए।
  4. Shift– का यूज़ भी Shortcut Keys के लिए।
  5. Alt– का यूज़ भी Shortcut Program को Run करने के लिए।
  6. Windows- Windows Key का यूज़ Window Menu को Open और Close करने के लिए.
  7. Num lock– का यूज़ Numeric Buttons को Function के लिए Enable और Disable करने के लिए।
  8. Esc– का यूज़ Program से Escape करने के लिए।
  9. Page Down– का यूज़ Page को नीचे की तरफ Scroll करने के लिए। 
  10. Delete– का यूज़ आप किसी भी File को delete के लिए।
  11. End– Courser को line के End में Move करना।
  12. Insert– जब Insert Mode On होता है, तो आपके द्वारा टाइप किया गया Text Courser पर डाला जाता है। जब Insert Mode Off हो जाता है, तो आप जो टाइप करते हैं तो वह मौजूदा अक्षरों को बदल देता है।
  13. F5– Window Refresh के लिए.
  14. F6– Taskbar Menu में Programs को Select करने के लिए।

Important Sort Cut Keys in Keyboard

  • Ctrl+S > Save.
  • Ctrl+c > Copy
  • Ctrl+V > Paste
  • Ctrl+Y > Redo
  • Ctrl+Z > Undo
  • Ctrl+shift+V > Paste without format
  • Ctrl+W > Close
  • Ctrl+A > Select all
  • Alt+Tab > Switch apps
  • Alt+F4 > Close apps
  • Win+D > Show or hide the desktop
  • Win+left arrow or Win+right arrow > Snap windows
  • Win+Tab > Open the Task view
  • Tab and Shift+Tab > Move backward and forward through options
  • Ctrl+Esc > Open the Start menu
  • F2 > Rename
  • F5 > Refresh
  • Win+L > Lock your Computer
  • Win+I > Open Settings
  • Win+S > Search Windows
  • Win+PrtScn > Save a screenshot
  • Ctrl+Shift+Esc > Open the Task Manager
  • Win+C > Start talking to Cortana
  • Win+Ctrl+D > Add a new virtual desktop
  • Win+X > Open the hidden menu
  • Windows Key + Alt + R > For screen recorder

Keyboard कितने प्रकार के होते है (Types of Keyboard) –

दुनियाभर में कंप्यूटर में कई तरह के कंप्यूटर कीबोर्ड का इस्तेमाल किया जाता है और कई प्रकार और अन्य नए विकसित कीबोर्ड भी मौजूद है। जो मशीन और उपकरण को चलाने में इस्तेमाल होते है। But हम यहां कुछ कीबोर्ड टाइप के बारे में जानने जिनका इस्तेमाल सामान्यत : किया जाता रहा है और होता भी है।

1. Qwerty Keyboard

Qwerty layout keyboard को बनाने का श्रेय Christopher Latham Sholes को जाता है। उनके द्वारा सन 1873 qwerty layout keyboard में बनाया गया था। इस कीबोर्ड को बनाने के पीछे उनका मकसद यह था की टाइपिंग की गति काम हो ताकि जल्दी-जल्दी लिखने में जो गलतियां होती है वो ना हों। यहां ये बताना जरुरी है कि पहले के समय जो टाइपराइटर होते थे उसके स्ट्रिंग Qwerty यानी की उसकी Keys Q, W,E, R, T, Y इस फॉर्मेट में ही होती थीं। Therefore आज दुनियाभर में सामान्यत: सबसे ज्यादा यूज़ किये जाने वाला keyboard है।

2. Dvorak Keyboard

Firstly इस कीबोर्ड को बनाने के पीछे एक महत्वपूर्ण कारण यह था कि कीबोर्ड की बीच वाली लाइन में सबसे ज्यादा यूज़ किये जाने वाले alphabets keys होने चाहिए। Dvorak और William Dealy ने सन 1936 में Dvorak Keyboard को बनाया था। इसके अलावा इसमें नॉर्मल keys के बीच ज्यादा स्पेस मौजूद है, जिससे टाइपिंग करना आसान हो जाए। टाइपिंग प्रोफेशनल Dvorak Keyboard को Qwerty Keyboard के मुकाबले में ज्यादा पसंद करते हैं।

3. Wireless Keyboard –

Wireless keyboard जैसा की नाम से पता चल रहा है यह कीबोर्ड बिना वायर का होता है। Secondly इसे कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए आपको वायर की जरूरत नहीं होती। वायरलेस कीबोर्ड Bluetooth, IR technology या radio frequency के जरिये कंप्यूटर से connect होता है। Wireless कीबोर्ड में transmitter, कीबोर्ड से स्ट्रोक को रेडियो तरंगों के रूप में भेजता है जो कि मूल उपकरण के पास रखे trans-receiver द्वारा प्राप्त किए जाते हैं। ये कीबोर्ड काफी पोर्टेबल होते हैं और इन्हें आसानी से carry किया जा सकता है।

4. Ergonomic Keyboard –

इस कीबोर्ड का निर्माण मुख्यता कंप्यूटर कीबोर्ड पर काम करते हुए सुबिधा हो इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया गया है। So that आप आसानी से इस कीबोर्ड का इस्तेमाल कर सके. साथ आप आराम से घंटो तक इस कीबोर्ड पर काम कर सकते है। इस Keyboard पर आप अपने दोनों हाथ से आसानी से रख कर टाइप कर सकते हैं और कीबोर्ड पर रख कर अपने हाथो को आराम भी दे सकते हैं। Ergonomic Keyboard कई डिज़ाइन में उपलब्ध होते है।

But इसका सबसे ज्यादा प्रचलन वाला layout V आकार का डिज़ाइन होता है. जिस पर करते समय दोनों हाथों को प्राकृतिक स्थिति में रख सकने के लिए बनाया गया है। ये कीबोर्ड कि नॉर्मल कीबोर्ड की तुलना में ज्यादा महंगे होते हैं therefore यह कम ही यूज़ किये जाते हुए दिखाई देते है।

5. Azerty Keyboard –

Azerty keyboard को मुख्य रूप से Qwerty layout keyboard के विकल्प के रूप में 19वीं शताब्दी के अंतिम दशक में फ्रांस में निर्मित किया गया था। इस कीबोर्ड का अधिकतर इस्तेमाल यूरपीय कंट्री में किया जाता है। Azerty keyboard में जो मुख्य समस्या है वो यह की बाजार में इसके दो layout देखने को मिलते है, जिनसे हम जो Azerty कीबोर्ड यूज़ कर रहे होते है तो हमे थोड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता। Consequently इसी समस्या के समाधान के लिए, फ्रांसीसी सरकार अब फ्रेंच Azerty Keyboard का मानकीकरण करना शुरू कर रही है।

6. Gaming Keyboard –

जैसा की नाम से विदित है की Gaming Keyboard ख़ास तौर पर गेम खेलना पसंद करने वाले लोगो किये बनाया गया है. आज के युग में गेमिंग की बढ़ती डिमांड को देखते हुए इन कीबोर्ड का निर्माण और विक्रय बढ़ गया है। वैसे तो यह कीबोर्ड काफी हद तक आम कीबोर्ड कि तरह ही होते हैं सिर्फ कुछ एक्स्ट्रा फीचर्स के अलावा। For example इसमें Multimedia keys और Led screen मोजूद रहती है। साथ ही इसमें ज्यादा space भी होता है। ये कीबोर्ड की Keys काफी ज्यादा durable रहती है।

7. Membrane Keyboard –

इसमें बाकि कीबोर्ड्स से अलग-अलग Keys की जगह प्रेशर पेड्स का इस्तेमाल किया गया है। विस्तार से बताये तो इसमें दूसरे कीबोर्ड की तरह बटन के स्थान पर Keys जगह Membrane Keyboard इसमें symbols और characters एक flat ओर flexible surface पर छपे हुई होते है जिसे की membrane कहा जाता है। Then जब कोई इस membrane के किसी भी चिह्नित क्षेत्र को दबाता है तो यहाँ से एक विद्युत संकेत सर्किट बोर्ड तक पहुँचता है।

Since ये कीबोर्ड dirt resistant रहते हैं और कीमत में काफी सस्ते होते हैं परन्तु इसमें टाइपिंग की accuracy नहीं होती है। साथ ही यह गेमिंग के लिए भी durable नहीं माने जाते इसलिए इनका उपयोग काफी कम होता है।

8. Mechanical Keyboard –

Mechanical Keyboard वे कीबोर्ड होते हैं जिसमे हर key के नीचे स्प्रिंग और कनेक्टर होते है। Because इसमें प्रत्येक key को press करने पर आवाज आती है। मैकेनिकल कीबोर्ड पर किसी भी key को दबाने पर ये उस key का कैरेक्टर इलेक्ट्रिकल सिग्नल के माध्यम से कंप्यूटर को भेज देता है जिसे कंप्यूटर फिर स्क्रीन पर दर्शाता है। मैकेनिकल कीबोर्ड की खासियत यह की यह membrane keyboard की अपेक्षा ज्यादा फ़ास्ट और कम कीमत में मिलते हैं।

दोस्तों में आशा करता हूँ की आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी होगी। आप जान चुके होंगे की Keyboard kya hai और ये कितने प्रकार के होते है ? इन हिंदी” इस पोस्ट को लेकर आपके मन में कोई भी query हो तो आप हमसे जरूर पूछे। हम पूरी कोशिस करेंगे की आपको सही और सटीक जानकारी provide कर सके। “Thank You”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

x
%d bloggers like this: